पुरस्कारों के लिए मानदंड

परम वीर चक्र, महा वीर चक्र एवं वीर चक्र

पात्र व्यक्ति: निम्नलिखित कोटियों के व्यक्ति परम वीर चक्र, महा वीर चक्र एवं वीर चक्र प्राप्त करने के पात्र होंगे :

  • क. नौसेना, सेना एवं वायु सेना के, किसी रिजर्व बल के, प्रादेशिक सेना, सहायक सेना के और विधिपूर्वक गठित किए गए किसी अन्य सशस्त्र बल के सभी रैंकों के अधिकारी और पुरूष एवं महिलाएं ।
  • ख. मेट्रन, सिस्टर्स, नर्स और नर्सिंग सेवा एवं अस्पताल एवं नर्सिंग से संबंधित अन्य सेवाओं का स्टाफ तथा उक्त उल्लिखित बलों में से किसी के आदेशों, निदेशों अथवा पर्यवेक्षण के अन्तर्गत दोनों लिंग के नियमित रूप से अथवा अस्थायी रूप से सेवारत सिविलियन ।

पात्रता की शर्तें:

परम वीर चक्र भूमि पर समुद्र में अथवा वायु में शत्रु का मुकाबला करने में अत्यंत असाधारण वीरता अथवा पराक्रम का कोई साहसी अथवा अभूतपूर्व कार्य अथवा आत्म-बलिदान करने पर प्रदान किया जाता है । महा वीर चक्र भूमि पर, समुद्र में अथवा वायु में शत्रु का मुकाबला करने में असाधारण वीरतापूर्ण कार्यों के लिए प्रदान किया जाता है । वीर चक्र भूमि पर, समुद्र में अथवा वायु में शत्रु का मुकाबला करने में वीरतापूर्ण कृत्यों के लिए प्रदान किया जाता है ।

अशोक चक्र , कीर्ति चक्र एवं शौर्य चक्र

पात्र व्यक्ति: निम्नलिखित कोटियों के व्यक्ति अशोक चक्र, कीर्ति चक्र एवं शौर्य चक्र पाने के पात्र होंगेः

  • क. नौसेना, सेना एवं वायु सेना के, किसी रिजर्व बल के, प्रादेशिक सेना, सहायक सेना के और विधिपूर्वक गठित किए गए किसी अन्य सशस्त्र बल के सभी रैंकों के अधिकारी और पुरूष एवं महिलाएं ।
  • ख. सशस्त्र बलों की नर्सिंग सेवाओं के सदस्य ।
  • ग. जीवन के सभी क्षेत्रों में दोनों लिंग के सिविलियन नागरिक और केंद्रीय अर्धसैनिक बलों एवं रेलवे सुरक्षा बल सहित पुलिस बलों के सदस्य ।

पात्रता की शर्तें:

अशोक चक्र शत्रु का अन्यथा मुकाबला करने में अत्यंत असाधारण वीरता अथवा पराक्रम का कोई साहसी कार्य अथवा अभूतपूर्व कार्य अथवा आत्म-बलिदान के लिए प्रदान किया जाता है ।
कीर्ति चक्र शत्रु का अन्यथा मुकाबला करने में उत्कृष्ट वीरता के लिए प्रदान किया जाता है ।
शौर्य चक्र शत्रु का अन्यथा मुकाबला करने में वीरता के लिए दिया जाता है ।
सभी वीरता पुरस्कार मरणोपरान्त प्रदान किए जा सकते हैं ।